Use our free online Tool Electric Power Consumption

Facebook

Subscribe for New Post Notifications

Categories

Ad Home

BANNER 728X90

Labels

B2B (31) Beauty Tips (10) College (2) facebook (2) Health Tips (70) Kahani (27) love story (10) love tips (41) moral (31) Motivational (17) Pregnency (6) quotes (2) whatsapp chat tip (11)

Random Posts

Recent Posts

Recent in Sports

Header Ads

test

Popular Posts

Pages

Business

Fashion

Business

[3,Design,post-tag]

FEATURED POSTS

Theme images by Storman. Powered by Blogger.

Featured post

पंचतंत्र कहानियाँ Hindi stories for kids panchatantra

हम लाये है आप के लिए panchtantra ki kahaniya या फिर कहे bachon ki kahaniyan in hindi इस आर्टिकल में आप को moral stories for childrens in hi...

Featured

Showing posts with label Pregnency. Show all posts
Showing posts with label Pregnency. Show all posts

Friday, 10 August 2018

अनचाही pregnancy से पाएं छुटकारा pregnancy se bachne ke upay in hindi

- 2 comments
pregnancy को अगर रोकना चाहते है तो जरुर इस post को read करे pregnancy ko rokne ke upay in hindi या pregnant nahi hone ke upay in hindi या फिर what is the safe period to avoid pregnancy in hindi और ayurvedic garbh nirodhak upay और जाने pregnancy rokne ke tips hindi और pregnancy stop tips in hindi इस post में बताय गए तरीकों से आप अपनी pregnancy को रोक सकते है.

अनचाही pregnancy :-

pregnancy खुशियों के साथ-साथ जिम्मेदारीयां भी लाता है लेकिन जो couple इस जिम्मेदारी के लिए मानसिक रूप से त्यार ही नहीं है उनके लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका है contraceptive जो महिलाएं pregnant नहीं होना चाहती है उनके लिए pregnancy एक बड़ी समस्या है वे घबरा जाती है कि कैसे वो pregnancy को रोके हर महीने अनचाही pregnancy ठहरने का ख़तरा मंडराता रहता है तो महिलाएं pregnancy से बचने के लिए कोशिश करती रहती है और pregnancy को रोकने के लिए कुछ ना कुछ खोजती रहती है . लेकिन pregnancy हर दिन नहीं ठहरती है इसके ठहरने का कुछ time भी होता है महीने में 2 या 3 दिन महिला के ovulation के दिन कहलाते है लेकिन बहुत मुश्किल होता है.
ये 2-3 दिन कौनसे होते है यह जानना तो आज आप जान लीजिये यह तरीका जिसका नाम है ovulation test kit ये kit pregnancy test की तरह होती है और ये आपको बाजार में मिल जायेगी या आप online भी purchase कर सकते है.

अब आपको इस kit का use कैसे करना है :-

इसे use करने के लिए पहले आपको ये जानना होगा की आपको periods कितने दिनों से आता है यानी एक periods से दुसरे periods के बीच का time(आपको जोड़ना है की आपके पहले पीरियड्स के पहले दिन से लेकर दुसरे पीरियड्स के पहले दिन के बीच का time जोड़ना है)इस के साथ एक चार्ट भी आएगा.

इस चार्ट की मदद से जाने test करना :-

एक तरफ period का cycle दिया है और दूसरी तरफ किस दिन से test करना है.
इस chart की मदद से एक उदाहरण समझिये :- मान लीजिये की आपका period 21 या 22 दिन का है तो आपको period आने के 6वें दिन से 5 दिन (6,7,8,9,10) तक test करना है इसी तरह 23 या 24 दिन का period होने पर 7वें दिन से 25 दिन का होने पर 8वें दिन से 5 वें दिन करना है इस प्रकार अगर 26 दिन का period है तो आपको 9 वें दिन से 5 दिन करना है 27 दिन का है तो 10 वें दिन से 5 दिन करना है यानि 14 दिनों तक (10,11,12,13,14) normally 28 दिन का ही periods ज्यादातर होता है 11 वें दिन से ovulation test करना start करना है और 5 दिन तक करना है जिस दिन positive आय उस दिन के बाद आपको 3-4 दिन तक sex नही करना है इसी प्रकार आपका period जितने दिनों का है उसी हिसाब से आप test कर सकते है आप chart को देख सकते है और जान सकते है.


pregnancy test kit का भी इसी तरह use होता है मगर pregnancy test में morning में urine लिया जाता है और इसमें दोपहर का urine लेना चाहिए इस test kit में 5 tester आयंगे जिससे आपको 5 दिन test करना होगा और जिस दिन positive आय उस दिन के बाद 3-4 दिन तक आपको sex नहीं करना है.


घरेलु नुश्खे गर्भपात के लिए तभी तक काम करते है जब गर्भ 1 या 2 महीने का हो जब pregnancy ज्यादा दिनों की हो जाय तब doctors से ही abortion कराना चाहिए और उन्ही से ही दावा लेनी चाहिए कई महिलाएं pregnant होने के बाद बाजार से pregnancy को रोकने की दावा ले लेती है जिससे बाद में उनको pregnant होने में दिक्कत आती है अगर आप pregnant होना चाहती है तो आपकी age 18 साल से ज्यादा और 35 साल से कम होनी चाहिए pregnancy से आप अनचाही pregnancy से तो बच सकती है लेकिन फिर बाद में ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है जिनके कारण आपको काफी दिक्कतें होती है और abortion करने के बाद शरीर में कमजोरी भी आ जाती है और इस वजह से आने वाले वक़्त में आपको pregnant होने में बहुत दिक्कतें आती है.

हल्दी :- हल्दी काफी गर्म होती है जो आपको अनचाहे गर्भ से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकती है.
एक चौथाई चम्मच हल्दी powder में उतना ही शहद मिलाकर रोजाना इसका सेवन करें और ये नुस्खा आपको तब तक करना है जब तक आपको अपनी समस्या से निजात ना मिले.

अदरक :-एक ताजा अदरक को छोटे टुकड़ो में काट लें और उसमे थोडा पानी मिलाकर 5 min. के लिए गर्म करें और स्वाद के लिए इसमें थोड़ा चीनी और गुड़ इस्तेमाल करें और आप इस drink को गर्म ही लें.
अगर आप गर्भवती महिला है तो आप गर्भनिरोधक गोलियों को बिलकुल भी ना लें.

इलाइची :- ज्यादा इलाइची खाने से गर्भपात की सम्भावना बड़ जाती है लेकिन याद रखे की इलाइची रात में नहीं खानी है.

बाजरा :- बाजरे को ज्यादा खाने से गर्भ गिरने की संभावना ज्यादा बड़ जाती है.



कच्चा पपीता :- अगर आप कच्चे पपीते का सेवन शुरुआती गर्भ अवस्था में करती है तो गर्भपात की समस्या बहुत ज्यादा बड़ जाती है.

गर्भनिरोधक से ना केवल family planing हो सकती है बल्कि योन रोंगों को भी रोका जा सकता है.

condom:-

pregnancy को रोकने के लिए या sex सम्बंधित किसी भी बीमारी से बचने के लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका है condom. condom पुरुष और महिला दोनों के लिए option है दोनों के लिए आते है इसका work क्या है जब स्त्री और पुरुष आपस में love making कर रहे होते है तो पुरुष का sperm जो है स्त्री की योनी के द्वारा उसके शरीर में जाने से उसे रोकता है तो इससे ना तो अनचाही  pregnancy होती है बल्कि कोई भी sexual infection या decease  का भी खतरा नहीं होता है.


implant (प्रत्यारोपण) :-


implant को हार्मोन युक्त छोटी सी रोड के नाम से भी जाना जाता है ये महिला के arm के ऊपर की skin में लगाया जाता है जो pregnant होना नहीं  चाहती है और ये जो rod है 3-5 साल तक आमतौर पर वहां रह सकती है implant से progesterone हार्मोन निकलता रहता है जो स्त्री को pregnant होने से बचाता है implant से लगातार progesterone हार्मोन निकलता रहता है जो महिला को pregnant होने से बचाता है हारमोंस गरभेवा  के चारो ओर फैलकर mucus को गाढ़ा बना देता है जिससे sperm उसके पार नहीं जाते ह्र्मोंस की मात्रा के अनुसार ये ovary से x का production भी बंद कर देती है.


combined shot :-

estrogen और progesterone ये दो hormone injection है  जो महिला को हर महीने लेने होते है इससे महिलाओं के ovary में बनने वाले x कम हो जाते है यानि बंद हो जाते है जिससे pregnant होने का खतरा कम हो जाता है.


vasectomy(पुरुष नसबंदी):-


इसमें Vas deferens को अलग कर दिया जाता है जो ejaculation के दौरान testes से sperm को निकलते है ये surgery सबसे आसान है और इसका success rate भी सबसे ज्यादा है ये स्त्री और पुरुष दोनों करा सकते है.


hormonal IUD:-

IUD का मतलब (intrauterine device) इसको uterus में लगाया जाता है ये माचिस की तीली के बराबर उसकी मोटाई चीज़ होती है जो डोक्टोरो द्वारा uterus मे लगाइ जाती है ये 5 साल तक रेह सकती है.

inject-able contraceptive:-

inject-able contraceptive खाने वाली contraceptive कि तरह ही काम करता है ये cervical गाढ़ा करता है और egg fertilization को रोकता है इसको 3 महीने मे एक बार लगाया जा सकता है.


birth control skin patches:-

ये skin patches चौकोर होते है जिसमे female होरमोन estrogen ओर progesterone होता है जो कि skin के द्वारा blood मे  डाला जाता है लेकिन इससे STD में security नही है.

contraceptive pills (गर्भनिरोधक गोली ):-


असुरक्षित sex करने के बाद गर्भ से बचने के लिये स्त्रियाँ ये गोली लेती है इसका use sex के 72 घंटो के भीतर करना होता है क्यूंकि इसमें दो तरह के hormones होते है और ये कई दिनों तक काम करते है लेकिन ये कारगर हो इसकी guarantee नहीं है लेकिन sex के बाद जितनी जल्दी आप contraceptive pills लेते है  उतनी जल्दी ही उनका असर होता है.

इनमे से किसी भी चीज़ का इस्तेमाल करने से पहले specialist से जरुर पूछ ले उनकी सलाह के बाद ही आप इसका इस्तेमाल करें .



दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.

Thursday, 9 August 2018

pregnancy के 9 महीने pregnancy week by week in hindi

- No comments
अगर आप भी जानना चाहती है pregnancy के 9 महीनो का सफर तो pregnancy in hindi month by month और pregnancy calendar week by week in hindi में और आप खोज रहे है 9 month pregnancy tips in hindi या symptoms of pregnancy in the first week in hindi में और आप सही जगह पर है क्यूंकि यहाँ आपको आपके सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे और first month pregnancy symptoms in hindi या pregnancy week by week hindi me भी आप read कर सकते है इस पोस्ट के द्वारा.





9 month

माता-पिता बनना एक अलग ही तरह की feeling होती है.
1 सप्ताह :-
आप reality में अभी तक pregnant नहीं है. भले ही pregnancy 40 weeks तक हो, लेकिन आप केवल ३८ weeks अपने baby को पालते हो.

2 सप्ताह:-
ये वह week है जिसमे आप ovulation करते है. आपकी  ovary आपके fallopian tube में एक पका हुआ अंडा (egg) जारी करता है, जहां पर ये sperm का wait करता है.

3 सप्ताह :-
fertilization के बाद, Fetal nutrition(भ्रूण पोषण) के लिए आपके uterus की दीवार पर चिपक जायगा एक Implantation कहा जाता है. आपका baby एक छोटी ball है, जिसे blastocyst कहा जाता है, कई सौ cells से बनी है जो तेजी से बढ़ रहे है.

4 सप्ताह :-
आपके uterus की गहराई में, आपका बच्चा 2 layers(परत)से बना भ्रूण(fetus)है, और आपके Primitive umbilical cord का विकास हो रहा है. भ्रूण 2 भागों में divide होता है, एक आधा नाल बन जाता है और दूसरा आधा बढ़ना जारी रहता है.

5 सप्ताह :-
भ्रूण के पास अब तीन अलग-अलग परते है- बाहरी ektoderm,जो कान, आंख, तंत्रिक तंत्र, आंतरिक कान और कई संयोजी उत्तकों का निर्माण करेगा; endoderm, या आंतरिक परत, जो फेफड़ो, आंतो और मूत्राशय की तरह आंतरिक अंगो में बढ़ेगा; और मध्य mesoderm, जो finally दिल और संचार प्रणाली बना देगा.

6 सप्ताह :-
इस हफ्ते, आपके बच्चे के mind का devlop हो रहा है और mind तरंगो को अब record किया जा सकता है. आपके बच्चे के नाक, मुह, और कान आकार लेने लगे है.  आपको morning की बीमारी और स्पौटिंग हो सकती है.

7 सप्ताह:-

आपका baby अभी भी एक छोटी पूँछ के साथ एक भ्रूण है और हाथ और पैर बना रहा है आपका uterus shape में दोगुना हो गया है.

8 सप्ताह:-
आपके बच्चे के growth में तेजी आ रही है. जैसे-जैसे वह बड़ा हो जाता है, उसके नाज़ुक चेहरे के feature और ज्यादा clean होते जा रहे है, उसके कान, उपरी होंठ और उसकी नाक के नुकीले tip सभी clearly दिखाई देते है. इस बीच, आप जन्म के पहले test के बारे में decision ले सकते है.

9 सप्ताह :-
pancreas और gall bladder जैसे कुछ दुसरे प्रमुख organ के साथ, प्रजनन अंग अब बनने लगते है.


10 सप्ताह:-
आपके baby के growth का सबसे important हिस्सा समाप्त कर दिया है.

11 सप्ताह:-
एक हफ्ते, लगभग सभी अंगो के work start होते है.

12 सप्ताह:-
आपके baby की muscles का growth start हो गया है. जब आप अपने पेट पर अपना हाथ रखते है, t आपको बच्चा reaction में शायाद moved हो जायगा क्योंकि
उसकी प्रतिक्रियाएं विकसित होने लगते है. वह अपनी उँगलियों को खोलने और बंद करना शुरू कर देगा.

13 सप्ताह:-
ये पहली तिमाही का last week है. आपके baby के पास अब rare fingerprint है लगभग 3 inch लंबा है.

14 सप्ताह :-

आप और ज्यादा energy और कम nausea (मतली) महसूस करते है.

15 सप्ताह :-
आपका baby light को feel कर सकता है और taste की कलियों को बना रहा है.

16 सप्ताह:-
आपके baby के नाजुक skeleton hard हो रहे है. अगले कुछ हफ़्तों में, आपका baby weight को दुगुना कर देगा और अपनी लम्बाई में कुछ inch जोड़ देगा.

17 सप्ताह :-
placenta (गर्भनाल) strong और मोटा हो रहा है.

18 सप्ताह :-
अल्ट्रासाउंड पर देखने के लिए आपके baby के private parts काफी develop होते है.

19 सप्ताह :-
आपका baby आपको सुन सकता है.

20 सप्ताह :-
आप अपनी pregnancy में आधे रस्ते पर पहुंच गए है.

21 सप्ताह :-
अपने baby को हिलता महसूस कर सकेंगे.

22 सप्ताह :-

इस हफ्ते वह अपने स्पर्श की feelings को ठीक कर रहा है.

23 सप्ताह :-
सर्फैक्तेंत का उत्पाद किया जा रहा है, एक पदार्थ है जो हवा कोष को फूलने में और फेफड़ो को पूरी तरह से विस्तारित करने में सक्षम  बनाता है.

24 सप्ताह :-
जब आप चलते है, तो आपका baby movement को फेक कर सकता है.

25 सप्ताह :-
आपका baby कुछ वसा जोड़ने और ज्यादा बाल बढ़ाना start कर रहा है.

26 सप्ताह :-
आपके baby का पहला shit बड़ी आंत में बना रहा है. मोती, अँधेरी गन्दगी को मेकोनिया कहा जाता है और यह आम तौर पर पैदा होने के तुरंत बाद emission (उत्सर्जित) होता है.

27 सप्ताह :-
अगर आप गुदगुदी महसूस कर रहे है. तो यह आपके baby की हिचकी हो सकती है.

28 सप्ताह :-
आपका baby आपनी आँखों को खोलने और बंद करना start कर देगा.

29 सप्ताह :-
आपके baby की muscles और फेफड़े mature हो रहे है, और उसका सर उसके devloping mind के लिए जगह बनाने के लिए बढ़ रहा है.

30 सप्ताह :-

आपका baby लगभग 3 pound का हो गया है और इस बीच, मन बदलाव भद्दापन और थकन से जूझ सकते है.

31 सप्ताह :-
आपके baby की मजबूत लातें, रात में आपको जगाए रख सकती है और आपको braxton hicks के संकुचन भी महसूस होंगे.

32 सप्ताह :-
इस time तक उनके सभी major organ, फेफड़ो को छोड़कर, पूरी तरह से काम कर रहे है. लगभग सभी बच्चे जो इसी स्तर पर या इसके बाद पैदा हुए, जीवित रहते है और स्वस्थ जीवन प्राप्त करते है.

33 सप्ताह :-
आपके uterus में जगह कम पड़ रही है तो pregnancy में आपके baby इस time पर कम active होते है.

34 सप्ताह :-
इस week, इस week तक आपका baby एक medium shape के खरबूजे जितना हो गया है। उसका वजन भी अब 2.1 किलोग्राम से थोड़ा ज्यादा है। उसकी लंबाई सिर से एड़ी तक करीब 45 सें.मी. (17.7 इंच) हो गई है। आपके लिए यह एक राहत की बात हो सकती है कि 34 week की pregnancy में जन्मे baby गर्भ के बाहर जीवित रहने और फलने-फूलने में सक्षम होते हैं, बशर्ते उन्हें कोई अन्य स्वास्थ्य समस्या न हो।

35 सप्ताह :-
इस time आपके baby को उल्टा होना चाहिए, उसके सर को योनी कित्र्फ़ आना चाहिए.

36 सप्ताह :-
delivery की preparation में baby आपके श्रेणी में जा सकता है.

37 सप्ताह :-

नाभि placenta आपके delivery की prepration में, baby को antibody देने लगती है.

38 सप्ताह :-
आपकी pregnancy को अब full-time माना जाता है. baby 38 और 42 के बीच कही बाहर आ जताए है.

39 सप्ताह :-
इया time तक, आपका baby किसी भी time बाहर आने के लिए ready है.

40 सप्ताह :-
अगर आपने अभी तक delivery नहीं की है, तो आपका o.b. आप पर बधिक बारीकी से नज़र रखेगा. आपका c section के लिए जाना पड़ सकता है.


दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.

Wednesday, 8 August 2018

ये है लड़का पैदा होने के लक्ष्ण pregnancy tips in hindi for baby boy

- No comments
अगर लड़का पैदा करना चाहते है तो ladka paida karne ke upay  या ladka hone ke lakshan और जानना चाहते है ladka kaise hota hai या फिर beta paida karne ka upay तो आप इस post से जान सकते है की कैसे आप baby boy पैदा कर सकते है और जान सकते है ladka hone ke symptoms और ज्यादा जानकारी के लिए आप इस post को read करें और अपनी problem को solve करें.


baby boy

माँ बनना किसी भी लड़की के लिए सबसे सुखद अनुभव होता है इसके लिए वे नौवें महीने तक बच्चे को गर्भ में रखती है तो उनके मन में गर्भवती स्त्री के मन में चलता रहता है किस तरह पता करे के उनको लड़का होगा या लड़की तो आप कुछ लक्षणों से पता कर सकते है की आपको लड़का होगा या लड़की.

लक्ष्ण :-

ऐसा पूर्वजों का मानना था की ऐसे लक्ष्ण दिखे तो लड़का पैदा होगा.

  • गर्भवती महिला को उलटी या जी का मचलना यह तो आम बात है लेकिन pregnancy के time उलटी कम आती है या नहीं आती है तो ऐसा मन जता है की लड़का होगा.
  • pregnant lady का पेट सामने से न निकल के अगर निचे से निकल रहा होगा तो लड़का होगा.
  • scientific research के अनुसार अगर pregnant lady को ज्यादा भूक लगती है तो गर्भवती महिला को लड़का होने का संकेत माना गया है.
  • अगर बच्चे की दिल की धड़कन 140 per minute से कम है तो लड़का होगा.   



  • गर्भवती स्त्री के toilet का रंग गहरा पीला हो और गाढ़ा दिखे तो ये समझ ले की लड़का होने के लक्ष्ण है.
  • अगर pregnant lady को मीठे के अपेक्षा नमकीन खाना ज्यादा पसंद हो तो ये भी लड़का होने के लक्ष्ण है.
  • pregnancy में अगर आपके face पे बहुत सरे मुहासे निकल आय तो ये भी लड़का होने का संकेत है. 
  • चीन में ऐसा मानना है की चीनी calendar के अनुसार सामान्य उम्र की महिलाएं समान्य महीने में गर्भ धारण करती है तो ये बहुत हद तक संभव है के बच्चा समान लिंग का होगा. जैसे अगर 21 साल की स्त्री January में गर्भ धारण करती है तो ये सम्भावना होती है की वो लड़का होगा.
  • pregnant lady के nipple का कलर गहरा काला हो जाता है तो समझ ले की लड़का होने के chances है.
  • गर्भवती महिला को वजन में ज्यादा कोई फर्क ना आया हो और उसके पति का वजन बढ़ गया हो तो समझ लें की बच्चा लड़का पैदा होगा.
  • अगर गर्भवती स्त्री को सर दर्द जल्दी-जल्दी होता है तो समझ ले की ये भी लड़का होने के लक्ष्ण है.
  • अगर pregnancy में पैरों के बाल तेजी से बड़ रहे हो तो समझलो की लड़का होने का संकेत है.
  • गर्भवती महोले के बाल पहले से ज्यादा चमकदार दिखे तो समझ जाए की लड़का पैदा होगा.
  • कुछ महिलाओं में pregnancy के समय हाथो के फटने की शिकायत रहती है तो ये भी लड़का होने के संकेत हो सकते है.         



  • pregnant lady के दोनों स्तन बड़े होने start ही जाते है लेकिन अगर दायें स्तन बाएँ स्तन से बड़ा हो तो समझ लें के लड़का होने के chances है.
  • ऐसा माना जाता है की pregnant lady का पेट दाएं ओर निकला है तो ये संकेत लड़का होने के है 
  • कुछ महिलाओं में pregnancy के समय पैरों में लगातार ठंडा महसूस अगर हो तो ये भी लड़का होने का chances है.
  • pregnancy में महिला को थकान होती लेकिन थकान की स्थति में आपको left side (बाएँ करवट) लेटने में ज्यादा आराम मिलता है तो समझ ले की बच्चा लड़का पैदा होगा.


लड़का पैदा करने का सही तरीका :-


कई लेडीज को problem होती है की वो pregnant हो जाती है और कुछ ही दिनों में बच्चा गिर जाता है इस चीज़ को दूर करने के लिए यहाँ कुछ टिप्स बताय गय है जिनको follow करके आपकी ये problem खत्म हो जाएगी.

गर्भ ना ठहरने का कारण :-
इसके तीन कारण हो सकत है.
  •  सम्बन्ध बनाने करने का तरीका 
  • सम्बन्ध करने का time
  •  जीन्स के उपर depend करता है.   
अब इस problem को आप पहले और दुसरे तरीके से खुद solve कर सकते है जब कभी भी आप sex कर रहे हो तब ये बात जरूर याद रखें की sex करने वाले दिन से 1 महीने पहले तक आपने sex नहीं किया हो इससे पुरुष का sperm बहुत ही गाढ़ा और प्रबल होगा जिससे की आसानी से गर्भ धारण हो जायगा और उस रात कम से कम 3 बार sex करें  जिससे की गर्भ धारण का chance पूरी तरह प्रबल हो जाए.



सम्बन्ध कैसे बनाये :- 

वेसे तो सम्बन्ध बनाते  समय स्त्री और पुरुष अपने मन चाहे position बदलते रहते है और तुरंत ही बाथरूम में जाकर नहा भी लेते है जो की ऐसा करना गलत है सम्बन्ध करते time स्त्री का position ऐसा हो के वह नीचे की तरफ लेती हुई हो और पुरुष उपर की तरफ जिससे की penetration बहुत ज्यादा होगा और लिंग को गर्भाशय तक पहुंचाने में आसानी होगी और लिंग भी आसानी से गर्भाशय में चला जाएगा यही गल्रियां शादी के जोड़े में हो जाती है क्यूंकि अगर स्त्री पुरुष के उपर होगी तो sperm आसानी  से बाहार आ जाएगा और गर्भ धारण नहीं हो पाएगा.

तीसरे problem से परेशान है और फिर भी गर्भ धारण नहीं हो पा रहा है तो आपको डॉ. से मिलने की जरूरत है.

लड़का पैदा करने के लिए 3 महीने ये diet लें :-

महिला के गर्भ धारण करने से 3 महीने तक महिला जो खाना खाती है उसके गर्भ में उसके मुताबिक लड़का या लड़की बनते है scientist का कहना है की pregnant होने के 50 दिन तक महिला के गर्भ में लड़कियां ही होती है फिर माँ जैसा खाती है बच्चा वैसा ही बनता है oxford university England में 700 pregnant महिलाओं का शोध किया था उसमे से आधी महिलाओं को calcium वाला खाना दिया गया और आधी महिलाओं को ज्यादा fat वाला खाना दिया गया और जिन महिलाओं ने ज्यादा calcium वाला खाना खाया उन्होंने लड़किओं को जन्म दिया और जिन महिलाओं ने अधिक fat वाला खाना खाया उन्होंने लडको को जन्म दिया.


बेटा पैदा करने के लिए ये diet लें :-


dry fruits- इनमे calorie तो ज्यादा होती ही है लेकिन ये आपको सिमित मात्रा में रात को भिगो कर सुबह खाना  है रोज 7 बादाम, 8-9 पिस्ता, 8-10 काजू और 5 अखरोट लेना है.
मूंगफली में भी बहुत calorie होती है लेकिन एक मुट्ठी सर्दी के मौसम में आपको लेनी है गर्मियों में नहीं.

fruits-

  • avocado- दिन में एक या दो avocado एक कच्चा नारियल और सुबह दो केले खाएं दोपहर या रात में नहीं खाने चाहिए और रोजाना कीवी खाएं इसमें भी बहुत calorie पाई जाती है ये भी आप रोज 2 खा सकते है.
  • अनार और सेब - इनमे calorie कम और calcium ज्यादा होता है तो जिनको लड़का चाहिए वो 3 महीने तक सेब या अनार ना खाएं.

baby बॉय के लिए high calorie वाली चीज़े :-



  • dark chocolate
  • पास्ता और पिज़्ज़ा 
  • शुद्ध देसी घी (घी अगर घर का हो तभी खाएं बाजार वाला ना खाएं)
  • biscuit, नमकीन या चिप्स वगेरह 
  • ब्रेड, समोसा और कचोरी
  • खजूर में भी calorie ज्यादा होती है 6-8 से ज्यादा ना खाएं.
  • नूडल्स, पॉपकॉर्न और ब्राउन राइस
  • चाय भी पी सकते है.
  • आप सभी सब्जियां खा सकती है इनमे calorie कम और प्रोटीन ज्यादा होता है.    

दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.

Monday, 6 August 2018

क्या खाएं जिससे बच्चा स्वस्थ हो pregnancy me kya khana chahiye

- No comments
pregnancy में बच्चे का स्वस्थ होना बहुत जरूरी होता है जिससे बच्चे का भविष्य अच्छा हो इसलिए बहुत जरुरी है इस बात पर ध्यान देना की pregnancy के टाइम pregnancy me kya khaye और pregnancy me kya nahi khana chahiye in hindi या फिर pregnancy diet chart in hindi और garbhavastha me kya khana chahiye आप इस post के द्वारा जान सकते है यहाँ पे आपको आपके सारे सवाल clear हो जाएंगे और आप भी स्वस्थ बच्चे को जन्म दे पाएंगे.

pregnancy में केसी diet लें  :-

pregnancy  के time महिला को अच्छे खान-पान और अच्छी देखभाल की जरुरत होती है ये वो टाइम होता है जब उसके अन्दर एक ज़िन्दगी पल रही होती है  pregnancy के दौरान एक छोटी सी भी गलती माँ और बच्चे दोनी के लिए खतरनाक साबित हो सकती है और जानकारी के अभाव में craving के चलते महिलाएं कुछ ऐसी चीज़े खाने लगती है जिनकी सेहत को नुक्सान पहुंचा सकती है.
अगर आप ये diet चार्ट फॉलो करते है तो आपके baby का शारीरिक और मानशिक दोनों में विकास होगा
pregnancy में artificial sugar या उससे बनी drink न लें artificial sugar लेने से बच्चे के वजन पर असर पड़ता है

सेब :-

सेब health के लिए बहुत अच्छा होता है एक बहुत पुरानी कहावत है "an apple a day keep the doctor away" इसमें nutrition बहुत है power food है.

  • pregnancy में सेब खाने से बच्चे ज्यादा स्वस्थ होते है.
  • iron और calcium से भरपूर होता है सेब.
  • digestive system के लिए सेब फायदेमंद होता है.

अखरोट :-


  • गर्भ में बच्चे के मानसिक विकास में फायदेमंद है.
  • अखरोट से pregnancy में B.P. नियंत्रित रहता है.
  • अखरोट heart के लिए बहुत फायदेमंद होता है.
  • अखरोट खाने से pregnancy में cholesterol बढ़ने नहीं पाता है.
  • अखरोट ज्यादा नहीं खाना है 4 या 5 से ज्यादा एक दिन में नहीं खाना है ज्यादा खाने से भी नुकसान होता है.   

क्या खाएं :-

  • पर्याप्त मात्रा में पानी से विषैले तत्व बाहर निकलते है.
  • पानी की कमी से सरदर्द की शिकायत हो सकती है.
  • pregnancy में पानी की कमी से चक्कर और उल्टियाँ आती है.
  • pregnancy में पहले 3 महीने वोमोटिंग ज्यादा होती है.
  • उलटी होने पर अदरक का छोटा सा टुकड़ा चबाएं.
  • सौंफ चबाकर खाएं.
  • नींबू पर काला नमक लगाकर चाटें.
  • नींबू पानी भी पी सकते है.   



  • pregnancy में आंवला चूर्ण से पाचन बेहतर होता है.
  • सौंफ, जीरा और धनिए तीनो बराबर मात्रा में लेकर इस मिश्रण का सेवन करें.
  • सौंफ और जीरे का पानी पीएं.
  • अपच, कब्ज और gas से राहत के लिए त्रिफला चूर्ण खाएं.
  • रात को दूध के साथ त्रिफ्लाचुर्ण ले सकते है.
  • हरी सब्जियां, फ्रूट्स, dry फ्रूट्स और नट्स खाएं.
  • दूध, पनीर और दाल खाएं.
  • सात्विक चीज़ें, सातिक विचार अपनाए.

क्या ना खाएं :-

  • आहार में गर्म चीज़ें खाने से परहेज करें.
  • नकारात्मक बातों से बचें.
  • pregnancy में प्लास्टिक के बर्तनों में भोजन नहीं करना चाहिए. 
  • चाय, कॉफ़ी, मिर्ची और अचार ना खाएं.

माँ बनने की सही उम्र:-
20 की उम्र के बाद माँ बनना चाहिए.

pregnancy प्लान क्यों जरुरी है?

जब आप प्लान करके कुछ काम करते है तो वो काम आपका बहुत अच्छा होता है ऐसे ही baby प्लानिंग भी बहुत जरुरी होती है आपके लिए भी और बच्चे के लिए भी क्यूंकि बच्चा आपका future है और एक अच्छा बच्चा healthy बच्चा mentally, spiritually, physically हर level से जो healthy बच्चा रहेगा तो आपका भविष्य अच्छा बनाएगा.

baby plan करने से पहले बरते सावधानी :-


  • पहले दोनों partner को किसी doctor से सलाह लेही चाहिए.
  • check-up कराएं और फिर baby plan करें.
  • शारीरिक और mental  level पर मजबूत रहें.

कैसे बचे एनीमिया के खतरे से :-


  • खजूर और किशमिश दूध में मिलाकर खाएं.
  • daily सेब के सेवन से खून बढ़ता है.
  • चुकंदर और गाजर का सेवन कर सकते है.
  • एक बड़ा चम्मच च्वनप्राश daily खाएं.
  • आहार में हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं.  



regular check-up कबसे कराएं :-


  • गर्भधारण के 8 हफ्ते के बाद doctor के पास regular check-up के लिए जाना चाहिए इसके बाद हर 2 महीने पर doctor के पास जाते रहें और जैसे आपके doctor आपको गाइड करें वैसा करना चाहिए.

माँ की सेहत का बच्चे पे असर :-

माँ के लिए pregnancy special period होता है  महिला उस period को enjoy भी करती है लेकिन कष्ट भी बहुत होता है कई प्रकार के challenges होते है कई प्रकार के changes होते है जो उसके मूड को भी effect करते है mood swing होता है mood कभी depression में चला जाता है  और खासतौर से अगर चारो तरफ का माहौल अच्छा नहीं है और उसको बहुत ज्यादा stress है या negativity है उसके चारो तरफ तो ये बहुत difficult है माँ के लिए भी और बच्चे के लिए भी इसका दुष प्रभाव बच्चे पे पड़ता है इसलिए कोशिश यही करें की महिला को खुश रखें.

pregnancy क्यों हो जाती है जानलेवा :-


  • pregnancy period में infection के कारण माँ की म्रत्यु हो जाती है.
  • ज्यादा ब्लीडिंग की वजह से भी मौत हो जाती है.
  • abortion से हुए इन्फेक्शन के कारण जान जाने का ख़तरा होता है.

high risk pregnancy :-


  • 35 साल के बाद माँ बनना high risk pregnancy में आता है.
  • pregnancy period में diabetes और थाइरोइड बीमारी का होना.
  • महिला को पहले से B.P., diabetes और मिर्गी की शिकायत होना.
  • नियमित रूप से doctor के पास जाते रहें    



pregnancy में करें हड्डियों की देखभाल :-

pregnancy में बहुत सारे changes आते है और जो baby है उसका growth होता रहता है.
एक special hormone होता है relaxing hormone इसका work खासतौर से जो pelvis बनाती है उनको soft करती है लेकिन वो उनको ही नहीं पुरे शरीर के जो bones होते है उनको सॉफ्ट करती है क्यूंकि हड्डियों में softness आने से fracture होने का डर रहता है या कोई चोट लग जाएं तो कुछ problem आने का डर रहता है और केवल हड्डियों का ही नहीं जो muscles जुडी हुई है ligaments और cartilage हैं अन्दर इन सब के उपर इसका प्रभाव पड़ता है pregnancy के time जो hormonal changes आते है उसका प्रभाव भी पड़ता है हमारी body पर खासतौर से bones पर.

calcium और vitamin D जरूर लें:-


  • pregnancy के दौरान बच्चे की हड्डियाँ बन रही होती है.
  • बच्चे की जरुरतें माँ की हड्डियों से calcium लेकर पूरी होती है.
  • calcium की कमी होने पर माँ और बच्चे दोनों को कमजोरी  हो जाती है.
  • pregnant women को हर रोज 1000 मी.ली. ग्राम तक calcium लेना चाहिए.

delivery के बाद :-


  • delivery के बाद calcium की जरुरत पड़ती है.
  • pregnancy के बाद breast feeding के समय महिलाएं calcium जरुर लें.
  •  बच्चे को माँ के दूध से ही calcium मिलता है.

क्या करें जिससे हड्डिय न हो कमजोर:-


  • दिन में 2 बार दूध जरूर पीएं.
  • पनीर और दही का सेवन करें.
  • पालक, गाजर और बथुए का साग खाएं.
  • मूली और शलजम के पत्तों का साग या सूप बनाकर लें.
  • तिल का रोस्ट करके खाएं.
  • अजवाइन, घी, dry fruits और गोंद के लड्डू बनाकर खाएं.    



क्या करें :-


  • sugar की जगह गुड़ खाएं.
  • डायबिटिक है तो artificial sugar खा सकते है.
  • pregnancy में soda या सॉफ्ट drinks पीना माँ और बच्चे दोनों के लिए हानिकारक है.
  • soft drink और soda की जगह नींबू पानी पीएं
  • pregnancy में फलों का juice लाभकारी है.
  • जीरे का पानी माँ-बच्चे दोनों के लिए फायदेमंद है जीरा digestion को दुरुस्त रखता है कब्ज और gas से राहत दिलाता है  शरीर में विषैले तत्व बाहर निकालने में मददगार है urinary ट्रैक्ट infection से बचाता है खून की कमी नही होने देता है रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में helpful है.


अगर जानना चाहते है pregnant kaise hoti hai ladki तो इस लिंक पे क्लिक करें.


दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.

Saturday, 4 August 2018

pregnancy test ऐसे होता है pregnancy test in hindi

- No comments
अगर आप जानना चाहते है की kya pregnancy me periods hote hai या pregnancy kitne din me pata chalta hai तो आप सही जगह पर है इस post में आपको आपके सारे सवालों के जवाब मिल जायंगे और how to check pregnancy in hindi या pregnancy test kit in hindi या इसके अलावा pregnancy me bleeding hona in hindi या pregnancy symptoms in hindi  इस post से जान सकते है.

क्या pregnancy में periods  होते है? 

periods के कितने दिन बाद pregnant होते है अपके पीरियड्स की ब्लेडिंग जिस दिन बंद होती है उसके ठीक अगले दिन  से sex करने से pregnancy के chance ज्यादा होते है जैसे मान लीजिये अगर आपके पीरियड्स की ब्लीडिंग आज खत्म हुई है तो कल sex करने  से आपके pregnant होने के chance सबसे ज्यादा बड़ जाते है.

  • periods के तुरत खत्म होने के बाद अपनी साफ़ सफाई का पूरा ध्यान रखे और जब आपके periods बिलकुल खत्म हो जायं तभी गर्भ धारण करें.
  • periods start हिने वाले दिन से 16वें दिनतक sex करने से pregnancy के chances सबसे ज्यादा होते है वेसे तो किसी भी असुरक्षित दिन sex करने से pregnancy हो सकती है.   



इसलिए अगर आप pregnant होना चाहते है अगर बच्चा चाहते है तो आप समय-समय पर sex करते रहें और अगर आप pregnant होना नहीं चाहते है तो बिना Precautions के sex बिलकुल न करें इस बात का बिलकुल ध्यान रखें की बार-बार गरभ्पात महिला को नुक्सान पहुंचता है और बाद में pregnant होने में भी problem आती है और अगर आप pregnancy चाहते है तो पहले महिला को healthy होना चाहिए अगर आप baby की प्लानिंग कर रहे है तो आपको पहले ही डॉ. की सलह ले लेनी चाहिए ताकि आपका baby भी healthy हो ovulation period के time pregnancy के chance सबसे ज्यादा होते है अपने ovulation periods का पता लगाने  के लिए आपको किसी डॉ. से contact करना चाहिए.



  • अगर पुरुष अपनी life partner को स्वांस के दौरान organism तक पहुंचता है तो इससे pregnancy के chance बहुत ज्यादा बड़ जाते है इसलिए male partner को भी चाहिए की अपने female partner को organism तक पहुँचाएं.
  • morning का time pregnancy के लिए बहुत अच्छा होता है अगर pregnant होने में कोई problem हो या कोई ख़ास जानकारी चाहते हो तो भी डॉ. से contact करें 


घरेलु तरीके से पता करे pregnant है या नही :-

pregnant है या नहीं ये पता करने से पहले आपको 3 घंटे तक टॉयलेट नहीं करना है क्यूंकि पेशाब मई मौजूद ACG होर्मोनेस से ही आपको पता चलता है की आप pregnant है या नहीं तो वो ACG होर्मोनेस अगर आप 3 घंटे तक पेशाब नहीं करेंगे तो वो strong होंगे तो इससे आपको अच्छे से अंदाजा हो जायगा की आप pregnant है या नहीं.
pregnancy test करने के लिए सबसे अच्छा time है  जब आप सुबह उठते हो तो जो आपका first toilet होता है उसी toilet से अगर आप pregnancy test करते है तो वो आपके लिए बहुत ही best है.
ये बात याद रखें की जब pregnancy test करे तो जिस container में आप test करेंगे वो बिलकुल साफ होना चाहिए उसमे किसी भी तरिके की कोई गन्दगी न हो नहीं तो आपका test गलत हो सकता है और age pregnancy test by-chance negative हो जाता है तो इससे आपको tension नहीं लेना है आप दुबारा 72घंटे बाद जांच करें.
वैसे तो ये घरेलु तरीके से pregnancy test करना 70% तक सही ही होते है लेकिन फिर भी अगर आपको pregnancy test मिल जाय तो आपको pregnancy kit की help से test कर सकते है.





dandelion pregnancy test :- dandelion पत्तियों को एक पैकेट में बाँधकर जमीन पर रखना है लेकिन याद रहे की इन पत्तियों को आपको सूरज की किरणों से बचा कर रखना है और फिर उसके बाद urine की कुछ बूंदे डाल देनी है और फिर 10 min. बाद इन पत्तियों पर लाल फफोले उठ जायंगे तो इसका मतलब है की आप pregnant है और अगर नहीं उठते है तो इसका मतलब आपका यह test negative है.

bleach pregnancy test :- किसी साफ़ container में bleach powder ले लें उसमे पेशाब के sample को mix कर लें और mix करने के बाद अगर आपको बुलबुले दिखते है तो इसका मतलब आपका test positive है लेकिन अगर कोई change नहीं हो रहा है तो मतलब negative है.

साबुन pregnancy test :-  साबुन में आपको पेशाब का sample mix करना है और अगर थोड़ी देर बाद इसमें भी बुलबुले बन जाते है तो pregnancy test positive है अगर नहीं बने तो test negative है



toothpaste pregnancy test :- इसमें आप सिर्फ सफ़ेद रंग का ही paste ले एक disposal glass में टॉयलेट लेना है जो आपका सुबह का सबसे पहला पेशाब होगा वो लेना है क्यूंकि उस time ACG हॉर्मोन का स्तर ज्यादा हो जाता है जिसकी वजह से pregnancy test का result बहुत आसानी से और सही-सही आयगा.
इस test को करने के लिए एक container में toilet का sample ले लीजिये और सफ़ेद कलर का toothpaste ले लीजिये फिर जिस container में आपने toilet का sample लिया है उसमे 1 चम्मच toothpaste डाल देना है उसके बाद 2 min. wait करना है 2 min. बाद अगर उसमे झाग दिखाइ दे और toothpaste का कलर नीले रंग का दिखाई दे तो ये बताता है की आपका test positive है लेकिन अगर इसके opposite result है अगर कोइ change नहीं होता तो इसका मतलब आपका test negative है.



Dettol pregnancy test :- एक शीशी में 15 ml. पेशाब लेंना है और उतनी ही मात्रा में dettol लेंना है और अच्छे से दोनों mix कर लेना है और कुछ देर wait करने के बाद अगर आपस में दोनों mix हो जाते है या फिर अलग-अलग हो जाते है और urine dettol पर तेल की तरह तैरने लगेगा और ऐसा होता है तो मतलब आप pregnant है और अगर नही तैरा मतलब की एक परत बनती है वो नहीं बनी तो इसका मतलब pregnant नहीं है.

baking soda pregnancy test :- 2 चम्मच baking soda में 1 चम्मच पेशाब mix करे अगर थोड़ी देर बाद इसमें बुलबुले बन जाएं तो समझ लीजिये pregnancy test positive है नही तो pregnancy test negative है .

चीनी pregnancy test:-  साफ़ बर्तन में थोड़ी सी चीनी ले लें और उसमे पेशाब का sample mix कर लें उसके बाद 1 min. तक wait करें wait करने के बाद अगर आपको उसमे गुच्छे जैसे दीखते है तो ये test pregnant होने का संकेत देता है लेकिन अगर चीनी टॉयलेट में घुल जाती है तो test negative है.

vinegar pregnancy test :- एक container में vinegar और पेशाब का sample लेके mix कर लेना है उसके बड अगर इसका कलर बदलता है तो test positive है लेकिन अगर कोई change नही हुआ है तो मतलब test negative है.





Pine-sol pregnancy test :-  सामन्य मात्रा में pine-sol और urine को mix कर ले उसके थोड़ी देर बाद अगर इस मिश्रण का रंग बदलता है तो मतलब आप pregnant है और अगर कलर change नहीं होता है तो test negative है.

pregnancy test kit :- यह एक kit होती है इसमें आपको एक गोल आकृति दिखेगी उसमे आपको अपने urine sample की एक या दो बूँद डाल दें उसके बाद अगर आपको इसमें दो line दिख जाएँ तो आपका ये test positive है और अगर आपको एक line दिखती है तो इसका मतलब है की pregnancy test negative है.

महिलाओं को अक्सर यह question उनके दिमाग में चलता रहता है की pregnancy में periods होते है के नहीं लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं की pregnancy के time periods  नहीं होती है periods के दौरान कई महिलाओं को ऐसा लगता है वो pregnant होने वाली है.


pregnancy के time periods नहीं होते है अगर आपको pregnancy के दौरान रक्तश्राव हो रहा है तो ये पीरियड्स का लक्ष्ण नहीं होता है थोडा सा ब्लीडिंग होने की वजह से महिलाओं को लगता है की उन्हें पीरियड्स आ रहे है लेकिन यह बात साफ गलत है की pregnancy में period आते है.
जब महिलाओं में period start हो जाते है तब असुरक्षित योंन सम्बन्ध बनाने से pregnant होने की समस्या होती है लेकिन pregnancy के time महिलाओं को periods आना बंद हो जाते है.
pregnancy या पीरियड्स एक साथ कभी नहीं हो सकते यातो आपको periods होंगे या फिर आप pregnant होंगे इन में से आपको कोई भी एक ही वक़्त में होगा.

pregnancy में periods होते है :- starting 3 month में महिलाओं को ब्लीडिंग हो सकती है यह एक common बात है 20-25% महिलाओं में पहले 3 महीनों में ब्लीडिंग होने की problem होती है और ये ब्लीडिंग कई बार आपको 1 महीने भी हो सकती है या फिर महीने भर से ज्यादा भी हो सकती है लेकिन इसका period से स्म्भंध नहीं होता है यह ब्लीडिंग कई कारणों से हो सकती है.
कारण:- body में implantation bleeding हो सकती है sex करने के time लिंग का ज्यादा अन्दर जाना इस वजह से भी ब्लीडिंग हो सकती है.
  • pregnancy के दौरान गर्भपात करने की वजह से भी आपको ब्लीडिंग हो सकती है.   
  • body में किसी तरह का infection होने के कारण भी आपको योनी के द्वारा ब्लीडिंग हो सकती है.   

अगर 6 महीने के बाद आपको ब्लीडिंग हो रही है तो जान लीजिये इसके कारण:-

  • आपके uterus में चोट आने की वजह से आपको ब्लीडिंग की problem हो सकती है.
  • abortion के वजह से भी ब्लीडिंग हो सकती है.    
  • uterus के बाहर चोट लगने से भी योनी के द्वारा व्ब्लीडिंग हो सकती है.
  • pregnancy के दौरान आपको कुछ अलग कारणों की वजह से ब्लीडिंग हो सकती है.
  • ब्लीडिंग की problem कुछ common problem की वजह से या फिर कोई गंभीर समस्या की वजह से भी ब्लीडिंग हो सकता है.
  • अगर आपको कोई गंभीर समस्या का लक्ष्ण दिख रहा है तो तुरंत डॉ. के पास जा कर उनसे सलाह लीजिये.
अगर आप किसी को pregnant करना चाहते  या pregnant  होना चाहते है  और उसके बारे में ज्यादा जानकारी चाहते है तो...........इस लिंक पे जाके आपको बहुत मदद मिलने वाली है pregnent karne ke upay या pregnant kaise kare.

दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.


Thursday, 2 August 2018

ऐसे होते है प्रेगनेंट pregnancy in Hindi

- No comments
अगर होना चाहते है pregnant तो pregnancy tips in hindi और pregnancy book in hindi से जाने सही तरीका और जाने जल्दी pregnant होने की जानकारी इस post और ये आपको हेल्प करेगा pregnancy care in hindi इसके अलावा kaise jane pregnant hai और आप pregnancy symptoms in hindi से जाने पूरी जानकारी इस पोस्ट से आपको काफी मदद मिलेगी.

प्रेग्नेंट कैसे होते है :-

स्त्री को जल्दी pregnant करने के लिए जरुरी है कि स्त्री अपने सबसे उपजाऊ दिनों में sex करे और किसी भी स्त्री का सबसे ज्यादा उपजाऊ समय होता है स्त्री के अंडे के निकलने के पहले के 3 दिनों से लेकर बाद के 3 दिन इन्ही 6 दिनों में किये गए sex से ही ज्यादातर बच्चों का जन्म होता है क्यूंकि स्त्री की योनी में पुरुष का शुक्राणु(sperm) ज्यादा से ज्यादा 3 से 6 दिनों तक ही जीवित रह सकता है 

स्त्री का नाड़ा निकलने के बाद केवल एक दिन तक ही जीवित रहता है इसलिए बहुत जरुरी है जब स्त्री का अंडा उसकी ovary से बाहर निकले तो उसे निषेचित करने के लिए पुरूष का शुक्राणु  पहले से ही मौजूद हो पुरुष के वीर्य में मौजूद शुक्राणु को अंडे तक पहुंचने में आधे घंटे से लेकर 12 घंटे के बीच का समय लगता है  इसलिए अगर पुरुष अंडे के निकलने के दिन भी sex करते है तो उसका sperm अंडे की निषेचित करने के लिए समय पर पहुँच जायगा और स्त्री बहुत आसानी से गर्भधारण कर लेगी.


जाने स्त्री के अंडे के निकलने का दिन का पता लगाना :-


  • इसमें पहले जरुरी है की स्त्री अपने menstrual cycle के दिनों की संख्या को पता करे स्त्री की दो लगातार की MC के बीच के दिनों के चक्र को MC कहते है.
  • स्त्री के निकलने वाले अंडे के दिन का पता लगाने के लिए स्त्री अपने menstrual cycle के दिनों की संख्या में से 14 को घटाने पर जो संख्या प्राप्त हो MC होने के बाद उतने दिनों बाद ही अंडा निकलता है.

जैसे :- मानिये किसी स्त्री का menstrual cycle 30 दिनों का है उसका अंडा MC होने के 30-14 = 16वें दिन निकलेगा इसी प्रकार अगर स्त्री का MC 26, 27, 28, 29, 30, या  फिर 32 दिनों का है उसका अंडा MC होने क्रमश: 12वें , 13वें, 14वें, 15वें, 17वें या फिर 18वें दन निकलेगा और स्त्री अपने अंडे के निकलने के दिन को जानने के लिए medical store पर मिलने वाले ovulation kit का भी use कर सकती है.

स्त्री के साथ फोरप्ले भी करें :-

ये बहुत जरुरी है की सम्बन्ध करने से पहले स्त्री के साथ फोरप्ले भी करे स्त्री के साथ सम्बन्ध से पहले किये जाने वाले प्यार को फोरप्ले कहते है. इसमें पुरुष स्त्री के होठों, कान के पीछे के हिस्से  को स्तनों को, और स्तनों के अग्र भाग को सहलाता, चाटता और चूमता है जिसे स्त्री उत्तेजित होना शुरू हो जाती है.
सम्बन्ध करने से पहले स्त्री के जनांग को भी सहलाना चाहिए जिससे स्त्री की योनी से चिपचिपा द्रव निकलने लगे   यह द्रव स्त्री की अम्लता को कम कर देता है जिससे वीर्य मौजूद sperm ज्यादा संख्या में अंडे तक पहुँच पाते है और स्त्री के pregnant होने की सम्भावना बढ जाती है.

स्त्री को चरमोत्कर्ष पर पहुंचाएं :-

स्त्री को चरमोत्कर्ष पर पहुंचाने पर योनी में  एक खीचाव पैदा होता है जो पुरुष के वीर्य को सही दिशा में जाने में मदद करता है साथ ही स्त्री के चरमोत्कर्ष के समय निकलने वाला द्रव पुरुष के  वीर्य में  मौजूद शुक्राणु को अंदर बढ़ने में भी मदद करता है.

सम्बन्ध से पहले स्त्री की योनी को ऊपर उठायें :-

जल्दी गर्भधारण करने के लिए बहुत जरुरी है की स्त्री के जाँघों के नीचे तकिया रख दि जाय जिससे उसका योनी वाला हिस्सा पेट की तुलना में थोडा ऊपर रहे जिससे सम्बन्ध करते समय निकलने वाला वीर्य आसानी से योनी के अंदर जा सके इसके अलावा गुरुत्वाकर्षण भी वीर्य में मौजूद शुक्राणु को अंदर की ओर धकेलेगा जिससे स्त्री के गर्भधारण करने की सम्भावना बहुत अधिक बढ़ जाती है.

सही पोजीशन:-

जल्द ही गर्भ धारण करने के लिए बहुत जरुरी है की स्त्री ऐसी position में हो जिससे अधिक लिंग योनी के अंदर जा सके जिससे वीर्य में मौजूद शुक्राणु को कम से कम दूरी तय करनी पड़े इसके लिए सबसे अच्छा है की स्त्री नीचे हो और पुरुष उसके ऊपर हो साथ ही पुरुष स्त्री के पैरों को अपने कंधे पर रख लें जिससे स्त्री की योनी वाला हिस्सा ज्यादा से ज्यादा खुल जाय और पुरुष का लिंग स्त्री की योनी में ज्यादा अंदर तक पहुँच जाये और स्त्री आसानी से गर्भधारण कर सके
सबसे अच्छी position होती है missionary position जिसमे पुरुष स्त्री के उपर होता है.


सही पोषण :-

जल्द ही प्रेग्नेंट होते के लिए महिलाओं को सही तरीके से पोषण लेना जरुरी है, जिसमे जितना जरुरी है उतना प्रोटीन, vitamins,minerals आदि हों अगर आप daily फल और सब्जियां नहीं खा सकते तो किसी अच्छे vegetarian food supplement भी ले सकते है.

गर्भवती होने के लक्ष्ण :-


  • थकान होना :- pregnant होने के time शरीर में बहुत सारे changes होने लगते है और बहुत सारे hormones active हो जाते है जिस वजह से थकान होने लगती है कुछ लेडीज को ओ starting में चक्कर भी आने लगते है.
  • जी मचलना :- pregnancy ये लक्ष्ण common है बार-बार  उलटी या चक्कर आना pregnancy का पहला लक्ष्ण है महिलाओं को 6 महीने तक या कुछ को तो delivery तक भी ऐसा होता है.
  • सर दर्द :- pregnancy के time hormones में change होता है जिस वजह से सर दर्द होता है.
  • बार-बार washroom जाना :- गर्भ ठहरने के बाद body में आवश्यकता से अधिक liquid बनने लगता है जिस वजह से बार बार pressure लगता है तो आपको washroom भी जाना पड़ेगा.
  • सांस लने में problem होना :- गर्भ धारण करते है तब उनको बड़ने के लिए oxygen की need होती है तो एस समय में महिलाओं को सांस लेने में दिक्कत होती है इसलिए pregnancy में ये common बात है.
  • कब्ज होना :- काफी time तक digestion ठीक से नही हो पाता है इस टाइम पाचन-प्रणाली पर असर पड़ता है इसलिए खानों को पचाने में तकलीफ होती है.  

  • भूक ज्यादा लगना :- pregnancy के टाइम पेट में पल रहे बच्चे को भी पोषण की जरूरत होती है इस वजह से भूक ज्यादा लगती है इसलिए खाने में ज्यादा ध्यान देना होगा और अच्छा खाना खाना होगा.
  • गंध ज्यादा आना :- pregnancy के time महिला को हर चीज़ की गंध ज्यादा आती है और कुछ को तो रोती सकते हुए भी उसकी गंध आने लगती है .
आप pregnant है या नही जानना चाहते हो तो निचे दिए गए link पर क्लिक कीजिये.

दोस्तों हमारा लक्ष्य सिर्फ और सिर्फ रोग मुक्त भारत बनाना है हम चाहते है की अधिक से अधिक लोगो तक हेल्थ की जानकारी पहुचे 
इसके लिए आप हमारा सहयोग करे,खुद पढ़े और दुसरो को पढाये.आप हमारे फेसबुक पेज को भी लाइक कर सकते है इसके लिए इस लिंक पे क्लिक करे फेसबुक पेज
या फिर अगर आप फ़ोन से ये जानकारी पढ़ रहे है तो सब से निचे फेसबुक लाइक करने का बटन है अगर आप कंप्यूटर से पढ़ रहे है तो साइड मे आप को फेसबुक लाइक 
का बटन दिख जायेगा.